Daily Answer Writing
27 November 2023

Que. Discuss the potential of Climate-Smart Agriculture (CSA) in addressing the dual challenges of climate change and food security in India.
(GS 03, 15 Marks, 250 Words)

प्रश्न : भारत में जलवायु परिवर्तन और खाद्य सुरक्षा की दोहरी चुनौतियों से निपटने में जलवायु-स्मार्ट कृषि (सीएसए) की क्षमता पर चर्चा करें।
(जीएस 03, 15 अंक, 250 शब्द)

Approach:

  • Introduction: Define Climate-Smart Agriculture (CSA) or Provide context regarding it.

  • Body: Highlight the potential of Climate-Smart Agriculture (CSA) in addressing the dual challenges of climate change and food security in India and also mention India's some CSA Initiatives. 

  • Conclusion: Provide a relevant conclusion which includes SDG goals.

 

Model Answer:

Climate change and food insecurity are two of the most pressing global challenges of the 21st century. India, with its large and growing population, need for agricultural production to rise by 60% by 2050 to fulfill food demand. But on other hand crop yield decline owing to climate change (between 2010 and 2039) could be as high as 9%. In this context climate smart agriculture (CSA) provides a holistic framework to fill this gap.

 

CSA is an integrated approach to managing agricultural landscapes – croplands, livestock, forests, and fisheries – to simultaneously achieve three objectives:

  • Sustainably increase agricultural productivity and incomes: CSA promotes sustainable intensification of agriculture, enhancing productivity without compromising environmental sustainability. This includes practices like precision agriculture, integrated pest management, and water-efficient irrigation techniques.

  • Adapt and build resilience to climate change: CSA emphasizes building resilience to climate variability and extremes through practices like drought-resistant crops, heat-tolerant varieties, and climate-informed risk management strategies.

  • Reduce/remove greenhouse gas (GHG) emissions, where possible: CSA promotes practices that mitigate GHG emissions from agriculture, such as reduced tillage, improved nutrient management, and livestock waste management.

 

CSA's Potential for India:

India, with its diverse agro-climatic conditions, offers immense potential for CSA implementation. CSA can significantly contribute to addressing India's climate-related challenges and food security concerns in the following ways:

  • Enhancing Agricultural Productivity: CSA practices have the potential to increase crop yields by 20-50%, significantly bolstering food production and reducing the need for agricultural land expansion.

  • Building Climate Resilience: CSA can help farmers adapt to changing climate patterns, reducing the negative impacts of climate variability and extremes on agricultural production and livelihoods.

  • Mitigating GHG Emissions: CSA practices can reduce GHG emissions from agriculture, contributing to India's climate change mitigation goals under the Paris Agreement whereas share of this sector’s in GHG’s emissions was 17% in 2018.

  • Reducing post-harvest losses: For example, using hermetic bags to store grain can protect it from pests and moisture, while using refrigerated trucks to transport perishable goods can prevent spoilage.

  • Reduced Fertilizer Use: Promoting efficient fertilizer application methods and organic farming practices can lower greenhouse gas emissions from agriculture.

  • Climate-Informed Advisories: Providing farmers with timely and location-specific weather forecasts and climate risk assessments enables them to make informed decisions about crop selection, planting times, and harvesting strategies. It would lead to more production of crops.

 

India's CSA Initiatives:

  • National Innovation on Climate Resilient Agriculture (NICRA): This program aims to develop and implement climate-resilient agricultural technologies and practices.

  • National Adaptation Fund for Climate Change (NAFCC): This fund supports climate change adaptation projects, including CSA initiatives.

  • Soil Health Mission: This mission promotes soil health management, a key component of CSA.

  • Pradhan Mantri Krishi Sinchayee Yojana (PMKSY): This scheme focuses on enhancing irrigation efficiency, a crucial aspect of CSA.

  • Paramparagat Krishi Vikas Yojana (PKVY): This scheme promotes organic farming, which aligns with CSA principles.

  • Biotech-KISAN: Biotech-KISAN aims to enhance farmers' access to biotechnology-based solutions for sustainable agriculture.

  • Climate Smart Village: Climate Smart Village is a pilot project demonstrating CSA approaches at the village level.

  • The System of Rice Intensification (SRI): SRI is a set of practices that can increase rice yields by up to 50% while reducing water use by up to 30%. 

 

Conclusion:

CSA offers a promising pathway to address the interconnected challenges of climate change and food security in India. By enhancing agricultural productivity, building climate resilience, and mitigating GHG emissions, CSA can contribute to a more sustainable (SDG 01: No Poverty, SDG 02: No Hunger and SDG 13: Climate Action) and food-secure future for India.

दृष्टिकोण:

  • प्रस्तावना: जलवायु-स्मार्ट कृषि (सीएसए) को परिभाषित करें या इसके संबंध में संदर्भ प्रदान करें।

  • मुख्य भाग: भारत में जलवायु परिवर्तन और खाद्य सुरक्षा की दोहरी चुनौतियों का समाधान करने में सीएसए की क्षमता पर प्रकाश डालें और भारत की कुछ सीएसए पहलों का भी उल्लेख करें।

  • निष्कर्ष: एक प्रासंगिक निष्कर्ष प्रदान करें, जिसमें सतत् विकास लक्ष्य (एसडीजी) शामिल हों।

 

मॉडल उत्तर:

जलवायु परिवर्तन और खाद्य असुरक्षा 21वीं सदी की दो सबसे गंभीर वैश्विक चुनौतियाँ हैं। भारत को अपनी बड़ी और बढ़ती आबादी के साथ, खाद्य मांग को पूरा करने के लिए 2050 तक कृषि उत्पादन में 60% की वृद्धि की आवश्यकता है। लेकिन दूसरी ओर जलवायु परिवर्तन के कारण फसल की उपज में गिरावट (2010 और 2039 के बीच) 9% तक हो सकती है। इस संदर्भ में जलवायु स्मार्ट कृषि (सीएसए) इस अंतर को भरने के लिए एक समग्र रूपरेखा प्रदान करती है।

 

जलवायु-स्मार्ट कृषि (सीएसए) एक साथ तीन उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए कृषि परिदृश्य - फसल भूमि, पशुधन, वन और मत्स्य पालन - के प्रबंधन के लिए एक एकीकृत दृष्टिकोण है:

  • कृषि उत्पादकता और आय में सतत वृद्धि: जलवायु-स्मार्ट कृषि (सीएसए) कृषि की संधारणीय गहनता को बढ़ावा देता है, जिससे पर्यावरणीय स्थिरता से समझौता किए बिना उत्पादकता में वृद्धि होती है। इसमें परिशुद्ध कृषि, एकीकृत कीट प्रबंधन और जल-कुशल सिंचाई तकनीक जैसी प्रथाएँ शामिल हैं।

  • जलवायु परिवर्तन के प्रति अनुकूलन और लचीलेपन का निर्माण: जलवायु-स्मार्ट कृषि (सीएसए) सूखा प्रतिरोधी फसलों, गर्मी-सहिष्णु किस्मों और जलवायु-सूचित जोखिम प्रबंधन रणनीतियों जैसी प्रथाओं के माध्यम से जलवायु परिवर्तनशीलता और चरम सीमाओं के प्रति लचीलापन बनाने पर जोर देता है।

  • जहां संभव हो, ग्रीनहाउस गैस (जीएचजी) उत्सर्जन को कम करना/हटाना: जलवायु-स्मार्ट कृषि (सीएसए) उन प्रथाओं को बढ़ावा देता है, जो कृषि से जीएचजी उत्सर्जन को कम करते हैं, जैसे कि कम जुताई, बेहतर पोषक तत्व प्रबंधन और पशुधन अपशिष्ट प्रबंधन।

 

भारत के लिए सीएसए की संभावनाएं:

भारत, अपनी विविध कृषि-जलवायु स्थितियों के साथ, जलवायु-स्मार्ट कृषि (सीएसए) कार्यान्वयन के लिए प्रचुर संभावनाएं प्रदान करता है। सीएसए निम्नलिखित तरीकों से भारत की जलवायु संबंधी चुनौतियों और खाद्य सुरक्षा संबंधी चिंताओं को दूर करने में महत्वपूर्ण योगदान दे सकता है:

  • कृषि उत्पादकता में वृद्धि: जलवायु-स्मार्ट कृषि (सीएसए) प्रथाओं में फसल की पैदावार को 20-50% तक बढ़ाने की क्षमता है, जिससे खाद्य उत्पादन में काफी वृद्धि होगी और कृषि भूमि विस्तार की आवश्यकता कम हो जाएगी।

  • जलवायु लचीलेपन का निर्माण: जलवायु-स्मार्ट कृषि (सीएसए) किसानों को बदलते जलवायु पैटर्न के अनुकूल ढलने में मदद कर सकता है, जिससे कृषि उत्पादन और आजीविका पर जलवायु परिवर्तनशीलता और चरम सीमाओं के नकारात्मक प्रभावों को कम किया जा सकता है।

  • जीएचजी उत्सर्जन को कम करना: जलवायु-स्मार्ट कृषि (सीएसए) प्रथाएं, कृषि से जीएचजी उत्सर्जन को कम कर सकती हैं, जो पेरिस समझौते के तहत भारत के जलवायु परिवर्तन शमन लक्ष्यों में योगदान कर सकती हैं, जबकि जीएचजी के उत्सर्जन में इस क्षेत्र की हिस्सेदारी 2018 में 17% थी।

  • कटाई के बाद होने वाले नुकसान को कम करना: उदाहरण के लिए, अनाज को भंडारित करने के लिए हेमेटिक बैग का उपयोग करने से इसे कीटों और नमी से बचाया जा सकता है, जबकि खराब होने वाले सामानों के परिवहन के लिए प्रशीतित ट्रकों का उपयोग करने से खराब होने से बचाया जा सकता है।

  • उर्वरक का कम उपयोग: कुशल उर्वरक अनुप्रयोग विधियों और जैविक खेती प्रथाओं को बढ़ावा देने से कृषि से ग्रीनहाउस गैस (जीएचजी) उत्सर्जन को कम किया जा सकता है।

  • जलवायु-सूचित परामर्श: किसानों को समय पर और स्थान-विशिष्ट मौसम पूर्वानुमान और जलवायु जोखिम मूल्यांकन प्रदान करने से उन्हें फसल चयन, रोपण समय और कटाई रणनीतियों के बारे में सूचित निर्णय लेने में सक्षम बनाया जाता है। इससे फसलों का उत्पादन अधिक होगा।

 

भारत की जलवायु-स्मार्ट कृषि (सीएसए) पहल:

  • जलवायु अनुकूल कृषि पर राष्ट्रीय नवाचार (एनआईसीआरए): इस कार्यक्रम का उद्देश्य जलवायु-लचीला कृषि प्रौद्योगिकियों और प्रथाओं को विकसित करना और लागू करना है।

  • जलवायु परिवर्तन के लिए राष्ट्रीय अनुकूलन कोष (एनएएफसीसी): यह कोष जलवायु-स्मार्ट कृषि (सीएसए) पहल सहित जलवायु परिवर्तन अनुकूलन परियोजनाओं का समर्थन करता है।

  • मृदा स्वास्थ्य मिशन: यह मिशन मृदा स्वास्थ्य प्रबंधन को बढ़ावा देता है, जो जलवायु-स्मार्ट कृषि (सीएसए) का एक प्रमुख घटक है।

  • प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना (पीएमकेएसवाई): यह योजना सिंचाई दक्षता बढ़ाने पर केंद्रित है, जो सीएसए का एक महत्वपूर्ण पहलू है।

  • परंपरागत कृषि विकास योजना (पीकेवीवाई): यह योजना जैविक खेती को बढ़ावा देती है, जो जलवायु-स्मार्ट कृषि (सीएसए) सिद्धांतों के अनुरूप है।

  • बायोटेक-किसान: बायोटेक-किसान का लक्ष्य सतत कृषि के लिए जैव प्रौद्योगिकी आधारित समाधानों तक किसानों की पहुंच बढ़ाना है।

  • जलवायु स्मार्ट गांव: जलवायु स्मार्ट गांव (क्लाइमेट स्मार्ट विलेज) एक पायलट प्रोजेक्ट है, जो ग्राम स्तर पर सीएसए दृष्टिकोण का प्रदर्शन करता है।

  • चावल गहनता की प्रणाली (एसआरआई): एसआरआई प्रथाओं का एक समूह है, जो पानी के उपयोग को 30% तक कम करते हुए चावल की पैदावार को 50% तक बढ़ा सकता है।

 

निष्कर्ष:

जलवायु-स्मार्ट कृषि (सीएसए) भारत में जलवायु परिवर्तन और खाद्य सुरक्षा की परस्पर जुड़ी चुनौतियों का समाधान करने का एक आशाजनक मार्ग प्रदान करता है। कृषि उत्पादकता को बढ़ाकर, जलवायु लचीलेपन का निर्माण करके और जीएचजी उत्सर्जन को कम करके, सीएसए भारत के लिए अधिक संधारणीय (एसडीजी 01: कोई गरीबी नहीं, एसडीजी 02: कोई भूखमरी नहीं और एसडीजी 13: जलवायु कार्रवाई) और खाद्य-सुरक्षित भविष्य में योगदान दे सकता है।

Note:

1. Rename PDF file with your NAME and DATE, then upload it on the website to avoid any technical issues.
2. Kindly upload only a scanned PDF copy of your answer. Simple photographs of the answer will not be evaluated!
3. Write your NAME at the top of the answer sheet. Answer sheets without NAME will not be evaluated, in any case.

Submit your answer
Answers